Breaking News
राजकोट में टीआरपी गेम जोन में लगी भीषण आग, 12 बच्चों समेत 27 लोगों की मौत
चारधाम यात्रा में विभिन्न व्यवसायियों ने 200 करोड़ से ज्यादा का किया कारोबार
दौडने के बाद जोड़ो में होता है दर्द? हो सकती हैं ये 5 गलतियां
हिमाचल में चल रही कांग्रेस की लहर- धीरेंद्र प्रताप
सीआईएमएस कॉलेज में क्वालिटेटिव नर्सिंग रिसर्च का दो दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन का सफल समापन
पंजाब में भी आप पार्टी ने खोली भ्रष्टाचार की इंडस्ट्री- मुख्यमंत्री धामी
जानलेवा ना बने निर्दोष जनता के लिए
चारधाम यात्रा- शासन ने दो अधिकारियों को बनाया यात्रा मजिस्ट्रेट
सपा और कांग्रेस का गठबंधन कहता है कि जीतेंगे तो लूटेंगे, हारेंगे तो टूटेंगे – मुख्यमंत्री योगी

पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने हरिद्वार में आयोजित खिलाड़ी सम्मेलन में किया प्रतिभाग 

खेल एक ऐसी विधा है, जो शारीरिक और मानसिक दोनों तरह का विकास करता है- पूर्व सीएम 

पूर्व सीएम ने ‘ऐतिहासिक झंडा मेला’ की बधाई एवं शुभकामनाएं दी 

हरिद्वार। पूर्व मुख्यमंत्री व हरिद्वार प्रत्याशी त्रिवेंद्र सिंह रावत ने हरिद्वार स्थित होटल गार्डनिया सिडकुल में आयोजित खिलाड़ी सम्मेलन में प्रतिभाग किया। इस दौरान पूर्व सीएम ने खिलाड़ियों को संबोधित करते हुए भारत माता की जय के साथ अपने संबोधन की शुरुआत की। संबोधन के शुरुआत में पूर्व सीएम का स्वागत किया गया, जिसके बाद पूर्व सीएम ने सभी खिलाड़ियों व पदाधिकारियों का कार्यक्रम में स्वागत किया। पूर्व सीएम ने कहा कि समय- समय पर इन गतिविधियों को बढ़ावा देना चाहिए, खेल को प्रोत्साहित करने से खिलाड़ियों में जोश व उत्साह की भावना पैदा होती है। और हमारा सदैव यहीं प्रयास रहता है, कि युवाओं में जरा सा भी जोश व उत्साह कम न हो। क्योंकि देश का भविष्य ही युवा से है।

पूर्व सीएम ने आगे कहा कि खेल को बढ़ावा देने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कर कमलों से आगे ओर भी अच्छी पहल करने की दिशा में कदम बढ़ाये जा रहे है, साथ ही कहा कि बच्चों को खेल खेलने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए। खेल एक ऐसी विधा है, जो हमारा शारीरिक और मानसिक दोनों तरह का विकास करता है। वहीं पूर्व सीएम ने मानवता व विश्वास से ओत-प्रोत देहरादून के ‘ऐतिहासिक झंडा मेला’ की सभी को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं दी। और कहा कि झंडा मेला विशिष्ट परंपराओं को समेटे है, तथा यह श्रद्धाभाव का भी मेला है। श्री गुरू राम राय महाराज की सीख एवं संदेश आज कहीं अधिक प्रासंगिक है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top