Breaking News
सीआईएमएस नर्सिंग कॉलेज में नर्सिंग क्वालिटेटिव रिसर्च मेथोडोलॉजी विषय पर दो दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन का शुभारंभ
आईपीएल 2024- क्वालीफायर-2 मुकाबले में आज सनराइजर्स हैदराबाद और राजस्थान रॉयल्स होगी आमने- सामने 
चुनाव आयोग की नई पहल, वोटर्स को लुभाने के लिए की रैपिडो, जोमैटो, स्विगी के साथ साझेदारी
पांच चरणों के चुनाव में मोदी की सुनामी देखकर घबरा गए गठबंधन के लोग – मुख्यमंत्री योगी
मुख्यमंत्री ने नई दिल्ली से वर्चुअल माध्यम से की चारधाम यात्रा की समीक्षा
तमिलनाडु में गूगल और फॉक्सकॉन साझेदारी में पिक्सल फोन का करेंगे उत्पादन
ऋषिकेश एम्स में महिला चिकित्सक से छेड़खानी के मामले की जांच के लिए एसआईटी गठित
अब गर्मी में भट्टी नहीं बनेगी आपकी किचन, इसे ऐसे रखें कूल कि मन लगे फुल
केदारनाथ धाम में हेलिकॉप्टर पायलट की सूझबूझ से टला बड़ा हादसा, लैंडिंग के बाद यात्रियों ने ली राहत भरी सांस  

Category: ब्लॉग

कुछ नेताओं के लिए यह चुनाव निर्णायक साबित हो सकता है

राज कुमार लोकसभा चुनाव में भाजपा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार की ‘हैट्रिक’ का नारा दिया है।  वैसा हुआ, तो विपक्ष की भूमिका में कांग्रेस की भी ‘हैट्रिक’ होगी।  दोनों बड़े दलों पर परिणामों का दूरगामी असर होगा, लेकिन कुछ दल और नेता तो ऐसे हैं, जिनका भविष्य ही इस चुनाव में तय हो […]

खाने-पीने की चीजों में मिलावट की समस्या बहुत पुरानी  

अशोक शर्मा इस महीने के शुरू में सिंगापुर और हांगकांग में मसालों के दो मशहूर भारतीय ब्रांडों के उत्पादों पर पाबंदी लगा दी गयी।  इन मसालों में घातक कीटनाशक एथिलीन ऑक्साइड मिलने की बात सामने आयी है, जो मानवीय उपभोग के लिए उचित नहीं है और इसे निरंतर खाने से कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी भी […]

लू से जिंदगी की जंग हार जाते हैं डेढ़ लाख से अधिक लोग

-डॉ. राजेन्द्र प्रसाद शर्मा बात भले ही अजीब लगे पर यह सच्चाई है कि लू के थपेड़ों से डेढ़ लाख से अधिक लोग जिंदगी की जंग हार जाते हैं। वैसे तो दुनिया के सभी देश इससे प्रभावित हो रहे हैं, पर भारत, रुस और चीन इससे सर्वाधिक प्रभावित हैं। प्रकृति का अत्याधिक और अंधाधुंध दोहन […]

मॉरिशस- भारत से हजारों किमी दूर एक भारत

अशोक शर्मा मकर रेखा पर स्थित मॉरीशस को ‘हिंद महासागर का मोती’ कहा जाता है।  प्रसिद्ध अमेरिकी साहित्यकार मार्क ट्वेन ने कहा था, ‘ईश्वर ने पहले यह देश बनाया और फिर उसमें से स्वर्ग की रचना की। ’ भारतीय मूल के सर शिवसागर रामगुलाम ने औपनिवेशिक शासन से मॉरीशस को आजादी दिलाने के प्रयासों की […]

भयावह खतरा है लू की तीव्रता

ज्ञानेंद्र रावत बीते दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मौसम में आ रहे बदलाव से आगामी महीनों में तापमान में बढ़ोतरी, हीटवेव और उससे उपजे खतरों से निपटने से संबंधित समीक्षा बैठक को संबोधित किया, जिसमें प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव, गृह सचिव, भारतीय मौसम विज्ञान विभाग और राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के उच्चाधिकारियों ने भाग लिया। […]

भ्रामक विज्ञापनों की रोकथाम

भ्रामक विज्ञापनों की रोकथाम के लिए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि प्रख्यात व सार्वजनिक हस्तियों को जिम्मेदार व्यवहार करना चाहिए। अदालत ने निर्देश दिया कि विज्ञापन जारी करने की अनुमति से पहले केबल टेलीविजन नेटवर्क नियम, 1994 के अनुसार, विज्ञापनदाताओं से स्वघोषणापत्र हासिल किया जाए। इस कानून का नियम 7 विज्ञापन संहिता का प्रावधान करता […]

अर्थव्यवस्था मजबूत करते सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम

सतीश सिंह कुछ क्षेत्र अत्यंत पिछड़े थे, जैसे- आधारभूत संरचना व शिक्षा, स्वास्थ्य, सड़क, बिजली, पानी, आवास जैसी बुनियादी सुविधाएं।  चूंकि निजी क्षेत्र सुधारात्मक पहल नहीं कर रहे थे, इसलिए सरकार ने पंचवर्षीय योजनाओं को मूर्त रूप दिया और सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों की स्थापना की, ताकि एक निश्चित समय में समावेशी विकास की संकल्पना […]

पीओके में बढ़ता जा रहा है जनता का गुस्सा

विवेक शुक्ला जब हमारी कश्मीर घाटी में लोकसभा चुनाव का प्रचार जारी है, तब पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) के बहुत बड़े हिस्से में अवाम सड़कों पर है।  जम्मू-कश्मीर की राजधानी श्रीनगर से मात्र 130 किलोमीटर दूर पीओके की राजधानी मुजफ्फराबाद और मीरपुर जैसे प्रमुख शहर में जनता सरकार से दो-दो हाथ करना चाहती है।  जनता […]

प्रवासी भारतीयों की कमाई

हिमानी रावत प्रवासियों द्वारा अपनी कमाई देश वापस भेजने के मामले में भारत फिर पहले स्थान पर आ गया है। संयुक्त राष्ट्र के अंतरराष्ट्रीय प्रवासन संगठन की ताजा रिपोर्ट के अनुसार, 2022 में विदेशों में कार्यरत भारतीयों ने 111 अरब डॉलर से अधिक रकम देश को भेजा था। विप्रेषित धन का सौ अरब का आंकड़ा […]

बुजुर्गों की सेहत और चुनौतियां, पारिवारिक और सामाजिक उपेक्षा बढ़ रहा संकट

किरन सिंह अगर बुजुर्गों की आबादी का एक बड़ा हिस्सा किन्हीं वजहों से अपना इलाज नहीं करा पाता, तो यह समाज और व्यवस्था की एक बड़ी नाकामी है। गौरतलब है कि एक गैरसरकारी संगठन के अध्ययन में यह तथ्य सामने आया है कि शहरी इलाकों के लगभग पचास फीसद बुजुर्ग आर्थिक मुश्किलों और कई अन्य […]

Back To Top